Friday, November 9, 2012

तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ शायरी हिंदी में जब तक है जान फिल्म


‡==========Θ@Θ==========

तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ 
तेरी हंसी की बेपरवा गुस्ताखियाँ 
तेरी जुल्फों की लहराती अंगडाइयां 
नहीं भूलूंगा मैं ।
जब तक है जान, जब तक है जान ।।

‡==========Θ@Θ==========

तेरा हाथ से हाथ छोड़ना
तेरा सायों का रुख मोड़ना 
तेरा पलट के फिर न देखना 
नहीं माफ़ करूंगा  मैं ।
जब तक है जान, जब तक है जान ।।

‡==========Θ@Θ==========

बारिशों में  बेधड़क तेरे  नाचने से
बात-बात पर तेरे बेवजह रूठने से 
छोटी-छोटी तेरी बच्कानियों से 
मोहब्बत करूंगा मैं ।
जब तक है जान, जब तक है जान ।।

‡==========Θ@Θ==========

तेरे झूठे कसमों-वादों से
तेरे जलते-सुलगते ख्वाबों से
तेरी बेरहम दुआओं से
नफ़रत करूँगा मैं ।
जब तक है जान, जब तक है जान ।।

‡==========Θ@Θ==========




2 comments: